Ghar Se Nikalte Hi Chords – Armaan Malik Easy Guitar Chords

Ghar Se Nikalte Hi Chords – Armaan Malik

Ghar Se Nikalte Hi Chords by Armaan Malik is romantic song sung by him. Its music is composed by Amaal Mallik and lyrics are written by Kunaal Vermaa. This song is adopted from the original track from the movie “Papa Kehte Hain”.

Ghar Se Nikalte Hi Chords

Ghar Se Nikalte Hi Song Detail:
Song: Ghar Se Nikalte Hi
Singers: Armaan Malik
Musicians: Amaal Mallik
Lyricists: Kunaal Vermaa

Ghar Se Nikalte Hi Guitar Chords

G                    C           Am           C
Masoom chegra, neechi nigahain
G                 C     Am         C
Bholi se ladki, bholi aadayan
A                         G
Ja apsara hai, na vo pari hai
D                              C               G
Lekin yeh uski, jadoogari hai

G                      Em               Bm          C    G
Deewana kar de vo, ik rang bhar de vo

D                                  C    G
Sharma ke dekhe jidhar.

G                            Em
Ghar se nikalte hi…

Same Chord Pattern…

Karta hoon uske, ghar ke main phere
Hansne lage hain, ab dost mere
Sach kah raha hoon, uski ki kasam hai
Main phir bhi khush hoon, bus ek gam hai
Jisse pyaar karta hoon, main jispe marta hoon
Usko nahi hai khabar.
Ghar se nikalte hi…

G                C           Am    C
Ladki hai jaise, koi paheli

G                C                    Am      C   G
Kal jo mili mujhko,   uski saheli

A                                       G
Maine kaha usko, jake yeh kahna

D                                      C             G
Achha nahi hai, yoon door rahna


Kal shaam nikle vo,

Em                     C    G
ghar se tahelne ko
G D C
Milna jo chahe agar.

G
Ghar se nikalte hi …

Ghar Se Nikalte Hi Armaan malik Guitar Chords

Ghar Se Nikalte Hi Lyrics

घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर
कल सुबह देखा तो
बाल बनाती वो
खिड़की में आई नजर

घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर
कल सुबह देखा तो
बाल बनाती वो
खिड़की में आई नजर
घर से निकलते ही..

मासूम चेहरा नीची निगाहें
भोली सी लड़की भोली अदायें
ना अप्सरा है, ना वो परी है
लेकिन यह उसकी जादूगरी है
दीवाना कर दे वो
इक रँग भर दे वो
शर्मा के देखे जिधर

घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर..

करता हूँ उसके घर के मैं फेरे
हँसने लगे हैं अब दोस्त मेरे
सच कह रहा हूँ उसकी कसम है
मैं फिर भी खुश हूँ बस एक गम है
जिसे प्यार करता हूँ
मैं जिस पे मरता हूँ
उसको नहीं है खबर

घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर..

लड़की है जैसे, कोई पहेली
कल जो मिली मुझको उसकी सहेली
मैंने कहा उसको जा के यह कहना
अच्छा नहीं है यूँ दूर रहना
कल शाम निकले वो
घर से टहलने को
मिलना जो चाहे अगर

घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर
कल सुबह देखा तो
बाल बनाती वो
खिड़की में आई नजर..

Thanks For Visit Gchord.in

Leave a Reply